राजकीय स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय रतिया में विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस पर बंटवारे के समय जान गवानें वाले लोगों को याद किया

PMG News Fatehabad

राजकीय स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय रतिया में आजादी का ‌अमृत महोत्सव श्रृंखला के अंतर्गत प्राचार्य डॉ रविंद्र पुरी और सभी स्टाफ ने दो मिनट का मौन रख कर विभाजन विभीषिका स्मृति दिवस पर उन लाखों लोगों को याद किया जिन्होंने देश के बंटवारे के समय न केवल अपनी जान गवायीं बल्कि असंख्य लोगों के दिल पर कभी न मिटने वाले घाव भी आ गए क्योंकी इस बंटवारे में मारकाट के अलावा महिलाओं की इज्जत भी लूटी गई और बहुत से लोगों के प्रियजन न जाने कहां खो गए। प्राचार्य डॉ पुरी ने आज सभी स्टाफ को अपने अपने घर पर दो मिनट का मौन रख कर उन लाखों लोगों को श्रद्धांजलि देने के लिए प्रेरित किया। महाविद्यालय के जन संपर्क अधिकारी प्रोफेसर सुरेंद्र शर्मा ने यह सूचना देते हुए बताया इस दुख को महसूस करने के लिए सारे स्टाफ को उस दुखदाई घड़ी का संक्षिप्त वर्णन भी किया गया। गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच बंटवारे की लकीर खिंचते ही रातों-रात अपने ही देश में लाखों लोग बेगाने और बेघर हो गए। धर्म-मजहब के आधार पर न चाहते हुए भी लाखों लोग इस पार से उस पार जाने को मजबूर हुए। इस अदला-बदली में दंगे भड़के, कत्लेआम हुए। जो लोग बच गए, उनमें से लाखों लोगों की जिंदगी बर्बाद हो गई। भारत-पाक विभाजन की यह घटना सदी की सबसे बड़ी त्रासदी में बदल गई। प्राचार्य डॉ पुरी ने संवेदना व्यक्त करते हुए कहते हैं कि यह केवल किसी देश की भौगोलिक सीमा का बंटवारा नहीं बल्कि लोगों के दिलों और भावनाओं का भी बंटवारा था। राजकीय महिला महाविद्यालय रतिया के स्टाफ ने इस अवसर पर संवेदना व्यक्त करी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.